कोरोनिल दवा पर बोले सी0 एम0 रावत, प्रोसीजरल फॉल्ट रहा होगा

Spread the love

योग गुरु बाबा रामदेव की कोरोना की दवाई ‘कोरोनिल’ की प्रमाणिकता पर उपजे विवाद के बीच गुरुवार को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि इसे बनाने में कोई ‘प्रोसीजरल फॉल्ट’ रही होगी। राजधानी में पत्रकारों से बातचीत करते हुए मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि पतंजलि की यह दवाई अपने ट्रायल पर खरी उतरी है

सीएम रावत ने कहा कि उन्होंने कहीं पढ़ा है कि इसके ट्रायल के परिणाम बहुत अच्छे रहे हैं। कोरोनिल से मरीज तीन दिन में 69% और एक सप्ताह में शत प्रतिशत ठीक हो जाते हैं। हालांकि, मुख्यमंत्री ने कहा कि हर काम विधिक होना चाहिए। उन्होंने कहा कि हर काम की एक प्रक्रिया होती है जिसका पालन किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि दवाई बनाने में कोई प्रोसीजरल फाल्ट रहा होगा। बता दें कि मंगलवार को बाबा रामदेव के कोरोनिल को बाजार में उतारते ही इसे लेकर विवाद शुरू हो गया जिसके बाद केंद्र के आयुष मंत्रालय ने इसके ट्रायल की पूरी जानकारी तलब करते हुए इसके कोरोना की दवाई के रूप में प्रचार पर रोक लगा दी

वीडियो देखें; आयुष मंत्री श्रीपद नायक ने क्या कहा जानने के लिए क्लिक करें👈

कोरोनिल दवा बनाकर बाबा रामदेव और पतंजलि कंपनी मुश्किल में फंस गई है। कोरोना की दवा के नाम पर इसके प्रचार को आयुष मंत्रालय ने रोक दिया है और जांच जारी है। इस बीच राजस्थान के निम्स यूनिवर्सिटी के डायरेक्टर बीएमस तोमर ने भी क्लिनिकल ट्रायल की बात से पल्ला झाड़ लिया है। अपने ऊपर लग रहे आरोपों का बचाव करते हुए पतंजलि ने कहा कि उसने दवा के निर्माण में किसी भी प्रकार के कानून का उल्लंघन नहीं किया है। पतंजिल के प्रवक्ता एस के तिजारावाला ने ट्वीट करके कहा, ‘पतंजिल ने इस औषधि के लेबल पर कोई अवैध दावा नहीं किया है। औषधि का निर्माण और बिक्री सरकार के द्वारा तय नियम-कानून के अनुसार होता है। किसी की व्यक्तिगत मान्यताओं और विचारधारा के अनुसार नहीं। पतंजलि ने सारी विधिसम्मत अनुपालना की है। बेवजह बयानबाजी से परहेज करें।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *